मन

Indira's Blog

मन कभी बूढ़ा नहीं होता तन बूढ़ा होता है , मन तो हमेशा यही कहता है-

चुराके तितलियों से रंग,फूलों से गंध
नाचूं बगिया में भंवरों के संग|
चुराके बादलों से नमी, हवा से मस्ती,
नाचूं सागर पे लहरों के संग|
चुराके चाँद से चांदनी ,रात से अँधेरा,
नाचूं नभ में तारों के संग|
चुराके कोयल से मिठास,
रचके खुशियों के गीत,
छेड़ूं मीठी मीठी तान सबके संग|

View original post

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s